Yet to be titled

Leave a comment

अकेले ही निकले थे अपने  मंजिल को तलाशते हुये
ज़माने की तालिम से मिली इल्म ने कारवाँ में शामील कर लिया
अब तो ना अपने आप को जानते ना इस भीड़ को पेहचानते
बास चले जा रहें है कामयाबी की नारे लगाते हुये |

akeley hi nikley they apne manzil ko talashte huye
zamane ki talim se mili ilm ne karwa mein shamil kar liya
aab to na apne aap ko jante na is bheed ko pehchante
bas chale ja rahen hain kamiyabi ki naare lagate huye.

Advertisements

बंजारा रही और वोह एक नज़र (Banjara Rahi aur Woh ek Nazar)

2 Comments

Today, I stumbled upon 3 very old poems written by me  in Hindi at different points of time … when I read them now I found a chord between them …. just wanted to share it here …tried to translate it for non-Hindi readers but it did not turn out as I would have loved to 😦

राही
तू तो है राही, चलना तेरा कम,
तुझे तो है मंजिलों की तलाश हर दम…
तो फिर, आज इस मंजिल के खोने पर कैसा ये गम?
उठ  रही,  भर  ले  अपने  क़दमों  में नई दम ,
फिर  किसी  नई  मंजिल  के  तलाश  में बड़ा अपने कदम…
मत  भूल तू तो है राही चलना तेरा कम,
तुझे तो है मंजिलों की तलाश हर दम…

बंजारा
वोह तो है इक बंजारा
न कोई मंजिल न कोई ठिकाना
आज इस गाँव तो कल उस सहर
फिरता है वोह डगर डगर

सब कहते है उससे दिल ना लगाना
उस को तो एकदिन है लौट जाना
फिर भी मिलते है नज़र
दिल को मिलती है हमसफ़र

एक नज़र
तेरे एक नज़र के दीदार को तरसते है उसके नयेन
तू एकदिन भी न दिखे तो नहीं आता उसे चैन
जब तू सामने होती तो मचलता है उसका दिल
धड़कने तेज हो जाती और साँस लेना भी होता मुस्किल
कैसी है बेचैनी क्यूँ है वोह इतना बेकरार
तू ही बता कैसे मिलेगा उसे करार …

Translations in English

Rahi (Traveler)
You are a traveler, traveling is what you do,
and you are always in search of a destination
so, why are you sad on losing this destination
get up o traveler, tighten your shoe laces
get going, in search of a new destination
as you are a traveler, traveling is what you do,
and you are always in search of a destination

Banzara (Wanderer)
He is a wanderer
Without any address or any destination
Today he is in this village tomorrow in some other city
Keeps roaming from place to place

They say don’t ever fall for him
Cause he will fly away someday
Yet the eyes meet
In search of the fellow wanderer

Ek nazar (one look)
Your one look is all he needs
He gets restless if doesn’t see you even for a day
When you are near his heart skips a beat
It starts racing and get breathless
Why is he so impatient? What’s stolen his sleep?
Now only you can relieve him from this current state