अकेले ही निकले थे अपने  मंजिल को तलाशते हुये
ज़माने की तालिम से मिली इल्म ने कारवाँ में शामील कर लिया
अब तो ना अपने आप को जानते ना इस भीड़ को पेहचानते
बास चले जा रहें है कामयाबी की नारे लगाते हुये |

akeley hi nikley they apne manzil ko talashte huye
zamane ki talim se mili ilm ne karwa mein shamil kar liya
aab to na apne aap ko jante na is bheed ko pehchante
bas chale ja rahen hain kamiyabi ki naare lagate huye.

Advertisements